जातीय हिंसा प्रभावित मणिपुर में ताजा हमले में सात सुरक्षाकर्मी घायल ।

1 min read

मणिपुर ।

थौबल में चार लोगों की हत्या के एक दिन बाद मंगलवार को जातीय हिंसा प्रभावित मणिपुर तेंगनौपाल जिले के मोरेह में एक हमले में तलाश अभियान के लिए जा रहे कम से कम सात सुरक्षाकर्मी घायल हो गए। पिछले साल मई से मेतेई और कुकी-जो समुदायों के बीच जातीय हिंसा में लगभग 200 लोग मारे गए हैं और लगभग 50,000 विस्थापित हुए हैं। तेंगनौपलाल में कुकी समुदाय के एक समूह के प्रवक्ता कैखोलाल हाओकिप ने बताया कि कमांडो द्वारा दो निहत्थे नागरिकों को अगवा करने की खबर मिलने के बाद सुरक्षा बलों और अज्ञात बंदूकधारियों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई।

उन्होंने कहा, गोलीबारी अब भी जारी है। दो घंटे से अधिक समय हो गया है। दो निहत्थे नागरिकों को च्वांघाई से ले जाया गया। तेंगनौपाल के पुलिस अधीक्षक लुईखम लानमियो ने हमले में शामिल किसी भी व्यक्ति की गिरफ्तारी की खबरों से इनकार किया। उपायुक्त कृष्ण कुमार ने कहा कि हमला बिना किसी उकसावे के किया गया और घायल सुरक्षाकर्मियों को अलग-अलग अस्पतालों में ले जाया गया। पांच कर्मियों को हेलीकॉप्टर से इंफाल ले जाया गया, जहां उन्हें क्षेत्रीय आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती कराया गया। दो अन्य का मोरेह में इलाज चल रहा है। अधिकारियों ने बताया कि घायलों में चार मणिपुर पुलिस के कमांडो हैं और बाकी सीमा सुरक्षा बल के हैं।

सुरक्षा बलों पर हमला उस समय किया गया जब शीर्ष अधिकारी मंगलवार से शुरू हो रहे कर्फ्यू उपायों की समीक्षा करने वाले थे और फैसला करने वाले थे। सोमवार को आतंकवादियों ने उस समय गोलीबारी की जब लिलोंग चिंगाओ के निवासियों ने जबरन वसूली के संदिग्ध प्रयास का विरोध किया। कांगपोकपी में शनिवार को मेइतेई और कुकी सशस्त्र ग्राम रक्षा स्वयंसेवकों के बीच गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी।

पत्रकार – देवाशीष शर्मा


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2023 Rashtriya Hindi News. All Right Reserved.