August 9, 2022

पत्रकार मोहम्मद ज़ुबैर को ‘धार्मिक भावनाएं आहत’ करने के आरोप में दिल्ली पुलिस ने किया गिरफ्तार

1 min read
‘ऑल्ट न्यूज़’ के सह-संस्थापक मोहम्मद ज़ुबैर को सोमवार को दिल्ली पुलिस ने धार्मिक भावनाएं आहत करने के आरोप में गिरफ्तार किया है.

‘ऑल्ट न्यूज़’ के सह-संस्थापक मोहम्मद ज़ुबैर को सोमवार को दिल्ली पुलिस ने धार्मिक भावनाएं आहत करने के आरोप में गिरफ्तार किया है. अधिकारियों ने यह जानकारी दी.पुलिस उपायुक्त के पी एस मल्होत्रा ने बताया इस माह की शुरुआत में ‘‘पत्रकार ज़ुबैर के खिलाफ भारतीय दंड संहिता IPC की धारा 153-ए (धर्म, जाति, जन्म स्थान, भाषा आदि के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच शत्रुता को बढ़ावा देना) और 295-A (धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के इरादे से जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण कार्य) के तहत मामला दर्ज किया गया है.’’

जुबेर की पोस्ट धर्म विशेष के खिलाफ
दिल्ली पुलिस की ओर से कहा गया कि जुबैर की तरफ से सोशल मीडिया में एक विशेष धर्म समुदाय के खिलाफ जान बूझकर फोटो पोस्ट की गई थी, जिससे लोगों के बीच अशांति फैल रही थी. लोगों के बीच नफरत फैलाने के लिए जुबैर के खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं. इसी के आधार पर उन्हें अरेस्ट किया गया है.

नूपुर के खिलाफ प्रदर्शनों के पीछे जुबैर का हाथ
भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा और निष्कासित नेता नवीन कुमार जिंदल द्वारा पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ कथित विवादास्पद टिप्पणी को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए थे, इसके साथ ही कुछ जगहों पर हिंसा भड़क गई थी. कथित तौर पर इन प्रदर्शनों को भी ऑल्ट न्यूज के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर ने हवा दी थी.

राहुल गांधी ने की गिरफ्तारी की निंदा
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जुबैर की गिरफ्तारी की निंदा की है. उन्होंने ट्वीट में कहा कि BJP की नफरत, कट्टरता और झूठ को जो भी उजागर करता है, ऐसा हर शख्स उनके लिए खतरा हो जाता है. उन्होंने कहा कि अत्याचार पर हमेशा सत्य की विजय होती है. सच की आवाज उठाने वाले एक शख्स को गिरफ्तार करने पर हजार और सामने आएंगे.

ओवैसी ने गिरफ्तारी का विरोध किया
AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि मोहम्मद जुबैर की गिरफ्तारी अत्यंत निंदनीय है.उन्हें बिना किसी नोटिस के किसी अज्ञात FIR में गिरफ्तार किया गया है. यह कानून का उल्लंघन है. उन्होंने आगे कहा कि नफरती नारे लगाने वालों के खिलाफ दिल्ली पुलिस कोई कदम नहीं उठाती है, लेकिन सच्चाई को सामने लाने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई करती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.